जालौन: आयुष्मान भारत योजना : गोल्डन कार्ड धारकों की संख्या पहुंची एक लाख के पार

कदौरा विकास खंड में सर्वाधिक 11,000 गोल्डन कार्ड धारक

जालौन, 15 फरवरी 2021 : प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) व मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान के अंतर्गत जनपद में गोल्डन कार्ड धारकों की संख्या एक लाख के पार पहुँच गई है।

योजना के जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉ. आशीष कुमार झा ने बताया कि 23 सितम्बर 2018 को योजना के शुभारंभ के बाद सामाज़िक आर्थिक जातिगत आधारित जनगणना – 2011 के आधार पर जिले में करीब 5.25 लाख व्यक्तियों के गोल्डन कार्ड बनाने का लक्ष्य है । इसमें ग्रामीण क्षेत्र के 70699 व शहरी क्षेत्र के 34343 लाभार्थी परिवार शामिल हैं। इसमें 103682 लाभार्थी परिवार प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में तथा 1360 लाभार्थी परिवार मुख्यमंत्री जन आरोग्य अभियान में शामिल हैं।

डॉ. आशीष ने बताया कि जिले में अब तक कुल एक लाख 320 लाभार्थियों के गोल्डन कार्ड बनाये जा चुके हैं, जो कुल गोल्डेन कार्ड का 19 फीसद है । 38,020 परिवारों में कम से कम एक गोल्डेनकार्ड उपलब्ध करवा दिया गया है जो जनपद में कुल पात्र परिवारों का 36.2 फीसद है । योजना के अंतर्गत 6906 मरीज़ों का उपचार जनपद के पंजीकृत चिकित्सालयों के साथ प्रदेश व देश के विभिन्न निजी व राजकीय चिकित्सालयों में हुआ है। इसमे छह करोड़ रुपए से भी अधिक की राशि का उपयोग हुआ है। लाभार्थी मरीज़ों के उपचार में जनपद का स्थान प्रदेश में 16वां है।

जालौन: आयुष्मान भारत योजना : गोल्डन कार्ड धारकों की संख्या पहुंची एक लाख के पार

आरोग्य मेले में भी बनाये जा रहे गोल्डन कार्ड

प्रत्येक रविवार को आयोजित होने वाले मुख्यमंत्री आरोग्य मेले में भी आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों का गोल्डन कार्ड बनाया जा रहा है । डॉ आशीष ने बताया – मुख्य चिकित्सा अधिकारी के निर्देशानुसार जनपद के सभी नौ विकासखंड के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों व नगरीय पीएचसी में मुख्यमंत्री आरोग्य मेला का आयोजन किया जा रहा है, जहां जन सुविधा केंद्र के माध्यम से शिविर लगाकर आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों का गोल्ड कार्ड भी बनाया जा रहा है। लाभार्थी परिवार जिसका नाम योजना की सूची में शामिल है, उनके परिवार के सभी सदस्यों का गोल्डन कार्ड बनना है। गोल्डन कार्ड का उपयोग जनपद समेत प्रदेश व देश के किसी भी पंजीकृत राजकीय व निजी चिकित्सालय में उपचार हेतु आवश्यक है। इस योजना में लाभार्थी परिवार प्रति वर्ष पांच लाख रुपए तक का निःशुल्क उपचार पंजीकृत चिकित्सालयों में करवा सकते हैं। कदौरा जनपद का पहला विकासखंड है , जहाँ 11 हज़ार लाभार्थी को गोल्डन कार्ड उपलब्ध करवाया गया है। डॉ आशीष ने बताया – जनपद के ग्रामीण क्षेत्र के डकोर ब्लॉक के 11334 , जालौन ब्लॉक के 8562, कदौरा ब्लॉक् के 12089, कोंच ब्लॉक के 5922, कुठोन्द ब्लॉक के 7279, माधौगढ़ ब्लॉक के 7369, महेवा ब्लॉक के 5536, नदीगांव ब्लॉक के 7207, रामपुरा ब्लॉक में 5401 लाभार्थी परिवार हैं । शेष सभी शहरी क्षेत्रों से हैं।

डॉ आशीष ने बताया – जिले में सबसे अधिक कदौरा ब्लाक में 11 हज़ार गोल्डन कार्ड बने हैं। जबकि जालौन ब्लाक में 9168, डकोर में 8820, माधौगढ़ में 7123, कोंच में 6143, नदीगांव में 7360, महेवा में 4818, कुठौंद में 4288, रामपुरा में 4667 गोल्डन कार्ड जारी किए जा चुके हैं। जनपद में कुल 36.2 फीसद से अधिक परिवारों को गोल्डन कार्ड पहुचाया जा चुका है। गोल्डन कार्ड बनवाने के लिए लाभार्थी परिवारो को जागरूक किया जा रहा है। शिविर के माध्यम से गाँव में जाकर आयुष्मान योजना के बारे में बताया जा रहा है। योजना के अंतर्गत निःशुल्क उपचार में गोल्डनकार्ड की उपयोगिता की जानकारी ग्रामीणों के साथ साझा की जा रही है।

31 मार्च तक जारी रहेगा विशेष गोल्डेनकार्ड अभियान

जनपद में विशेष गोल्डन कार्ड अभियान गत वर्ष 15 दिसंबर से जारी है, जो 31 मार्च 2021 तक चलेगा। अभियान के दौरान गोल्डन कार्ड बनवाने की दर में प्रगति हुई है। डॉ आशीष ने बताया – इस व्यापक अभियान से ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता फैल रही है, ग्रामीण आयुष्मान योजना व गोल्डनकार्ड के विषय मे चर्चा भी कर रहे हैं। अभियान के अंतर्गत प्रत्येक ब्लॉक के एक निश्चित गाँव में ही शिविर लगाना संभव हो पा रहा है। शेष गांवों में जन सुविधा केंद्रों के माध्यम से ही शिविर लगवाया जा रहा है।

जन सेवा केंद्रों में 30 रुपये लगते हैं

गोल्डन कार्ड के लिए सीएससी में गोल्डनकार्ड के लिए लाभार्थी को 30 रुपए प्रति कार्ड का शुल्क अदा करना होता है। डॉ आशीष के अनुसार शिविर के माध्यम से जहां भी गोल्डनकार्ड बनाया जा रहा है वहाँ ग्रामीणो को जागरूक भी किया जा रहा है। अस्पतालों में गोल्डन कार्ड देखने पर ही भर्ती कर निःशुल्क उपचार की सुविधा मिलती है, इसकी जानकारी जन मानस तक पहुँचाने का कार्य निरंतर जारी है।

गोल्डनकार्ड बनवाने के जरूरी दस्तावेज

  1. प्रधानमंत्री अथवा मुख्यमंत्री का पत्र/प्लास्टिक कार्ड
  2. राशन कार्ड / परिवार रजिस्टर की नकल
  3. आधार कार्ड /वोटर आईडी/ अन्य पहचान पत्र
  4. नव विवाहिता के लिए शादी प्रमाण पत्र/ नवजात शिशु के लिए जन्म प्रमाण पत्र।
    आयुष्मान के लाभार्थियों के बयान
    तीन दिन रहे अस्पताल में भर्ती,नहीं हुआ खर्च
    कदौरा ब्लाक के गुलौली गांव के इरशाद बेग (31) ने बताया कि आयुष्मान भारत योजना के गोल्डनकार्ड से कालपी के किलकारी अस्पताल में मेरा निशुल्क उपचार हुआ। डिहाईड्रेशन की समस्या पर वह तीन दिन तक अस्पताल में भर्ती रहे। वहां उनका एक भी रुपया खर्च नहीं हुआ और स्टाफ से भी कोई समस्या नहीं आई। आयुष्मान योजना कम आय वालों के लिए वरदान जैसी है।
मुफ्त में हो गया आंखों का आपरेशन

जालौन की राजेश्वरी देवी (59) का कहना है कि मोतियाबिंद के आपरेशन के लिए परेशान थे कि कहां कराएंगे। गोल्डनकार्ड के कारण उरई के नेत्र ज्योति अस्पताल में जाकर इलाज व आपरेशन कराया। गोल्डनकार्ड के कारण उनका आपरेशन पूरी तरह निशुल्क हो गया और कोई परेशानी नहीं हुई। डाक्टर से लेकर स्टाफ ने सहयोग किया। आयुष्मान योजना अच्छी योजना है।

Leave a comment