उरई: मनुष्य का जीवन तभी सार्थक है जब वो दूसरों के काम आये : अनिल कुमार यादव

आर०पी०एफ० व जी०आर०पी० के कोरोना योद्धाओं का हुआ सम्मान

बेटी आराध्या के जन्म दिवस पर युवा आदर्श समाज कल्याण समिति ने किया आयोजन

उरई: मनुष्य का जीवन तभी सार्थक है जब वो दूसरों के काम आये : अनिल कुमार यादव
उरई: मनुष्य का जीवन तभी सार्थक है जब वो दूसरों के काम आये : अनिल कुमार यादव

उरई: मनुष्य का जीवन तभी सार्थक है जब वह दूसरों के काम आये। यह विचार अपर जिला जज अनिल कुमार यादव ने व्यकत किये। वह आज रेलवे सुरक्षा बल उरई थाना परिसर में आयोजित कोरोना योद्धा सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त कर रहे थे। श्री यादव जी ने कहा कि वे स्वयं भी कोरोना की बीमारी से जूझे हैं लेकिन उन्होंने किसी को कोरोना की बीमारी नहीं दी है और उन्हें आज तक यह भी पता नहीं चल सका कि यह बीमारी उन्हें मिली किससे थी। श्री यादव ने अपना संस्मरण सुनाते हुये बताया कि कोरोना काल में वे प्रतिदिन 200 पैकेट खाना लेकर सड़कों पर जाते थे और जरूरतमंदों को देते थे। उन्हें इस दौरान उरई कानपुर हाइवे पर एक वृद्धा मिली जिसकी आंखों से आंसू बहते बहते सूख गये थे, उसने बताया कि वह दो दिन से भूखी है जब उन्होंने उसे भोजन का पैकेट दिया और जब वह भोजन कर चुकी तो उसके चेहरे पर उन्होंने तो संस्तुष्टि देखी वह अदभुत थी। उसने जी भर के मुझे आर्शीवाद दिया लेकिन उसकी भूख से तड़पती आंखे वे आज तक नहीं भूल पाये। उन्होंने कहा कि जब भी आपको ऐसा कोई मजबूर व्यक्ति दिखाई दे तो उसकी हमें मदद जरूर करनी चाहिये।

उरई: मनुष्य का जीवन तभी सार्थक है जब वो दूसरों के काम आये : अनिल कुमार यादव

मण्डल रेल सुरक्षा आयुक्त आलोक कुमार ने कहा कि कोविड-19 ने आरपीएफ और जीआरपी फोर्स के जवान और अधिकारियों ने जिस तरह सेवा की है वह सराहनीय और महत्वपूर्ण तो है ही लेकिन जिस तरह से पत्रकार श्रीकांत शर्मा ने अपनी बेटी आराध्या के जन्मदिवस पर कोरोद्धा योद्धाओं और आरपीएफ और जीआरपी फोर्स के जवान और अधिकारियों को सम्मानित करने का काम किया है वह कोरोना योद्धाओं के साथ-साथ वह फोर्स व समाज को भी प्रेरणा देने का बहुत बड़ा काम कर रहा है। इस तरह के आयोजनों से फोर्स का मनोबद्ध बढ़ता है। अपर पुलिस अधीक्षक डा0 अवधेश सिंह ने कहा कि अपने बच्चों के जन्म दिन, शादी की वर्षगांठ और अपने माता पिता, दादी-दादा, नानी-नाना की स्मृति में यदि ऐसे कार्यक्रम किये जाते हैं तो वो समाज को जोड़ते हैं और कष्टों में काम करने वाले कर्मियों का हौंसला बढ़ाते हैं। ये ऐसे कार्यक्रम समाज के लिये अनुकरणीय है। उन्होंने अपने कोरोना से पीड़ित होने के बाद के समय के अनुभव भी सुनायें।

सिटी मजिस्ट्रेट सुनील कुमार शुक्ला ने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से कोविड-19 में अपनी जान जोखिम में डालकर कार्य करने वालों का जहां हौसला बढ़ता है उनमें यह विश्वास भी पैदा करता है कि समाज उनकी चिन्ता करता है, वे अकेले नहीं है। इसलिये ऐसे कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार व स्वागत होना चाहिये।

समाज न्याय एवं किसान मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुरेश निरंजन भैया जी ने कहा कि वो चाहते हैं कि समाज में सभी लोग अपने परिजनों के जन्मदिवस, शादी की वर्षगांठ और स्मृति समारोह को वे व्यर्थ में पैसा न फूकें, बल्कि ऐसे कार्यक्रम करें जिससे समाज एक सूत्र में बंधे, जैसा कि यह कार्यक्रम।
वरिष्ठ पत्रकार एवं बुन्देलखण्ड किसान यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव संगठन अनिल शर्मा ने कहा कि कोविड-19 ने जिस तरह से फौजियों, पुलिस, जीआरपी, डाक्टर, मेडिकल स्टाफ ने जान हथेली पर रखकर दूसरो का जीवन बचाया है तथा ऐसे आदर्श शिक्षक जो ज्ञान देने का काम करते हैं उनके लिये इस तरह के कार्यक्रम होंगे तो समाज और मजबूत तथा एक परिवार जैसा बनेगा।
वरिष्ठ पत्रकार मनोज राजा ने ऐसे कार्यक्रम की समाज में बहुत जरूरत बताते हुये कहा कि आज परिवार बहुत सीमित हो गये हैं वे अकेलापन महसूस करते हैं इसलिये समाज के लिये सेवा करने वालों पर यदि इस तरह के सम्मान के कार्यक्रम होंगे तो इससे समाज और राष्ट्र बहुत मजबूत होगा।

इसके बाद मुख्य अतिथि अपर जिला जज अनिल कुमार यादव, कमाण्डेड आरपीएफ आलोक कुमार, अपर एसपी डा0 अवधेश सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट सुनील कुमार शुक्ला, वरिष्ठ नेता सुरेश निरंजन भैया जी व अनिल शर्मा ने आरपीएफ इंस्पेक्टर मुकेश कुमार गुप्ता, जीआरपी थाना प्रभारी ब्रजमोहन सैनी, उप निरीक्षक रामऔतार, डी0वी0 सिंह, एएसआई किशनलाल, ओमवीर, नवीन कुमार, आलोक कुमार, सत्यवती सहित आरपीएफ और जीआरपी के पुलिस कर्मियों को माला पहनाकर तथा प्रमाण पत्र देकर कोरोना योद्धा के रूप में सम्मानित किया। इस दौरान संस्था के संरक्षक विश्वनाथ शर्मा, उपाध्यक्ष विवेक समाधिया, पंकज बाजपेयी, रोहित राणा, रामस्वरूप कुशवाहा, वरिष्ठ पत्रकार अजय सहारा, आशीष शिवहरे, प्रदीप त्रिपाठी, राहुल दुबे, विनय गुप्ता, ब्रजमोहन निरंजन, विकास गुप्ता, सुधीर राना, मुवीन, आदित्य तिवारी, ऋषि महेश्वरी, गजेन्द्र सिंह चैहान सहित सैंकड़ों गणमान्य लोग मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन जीआरपी के थाना प्रभारी ब्रजमोहन सैनी तथा अध्यक्षता झांसी मण्डल के आरपीएफ के सुरक्षा आयुक्त आलोक कुमार ने की। श्रमजीवी पत्रकार संघ के जिलाध्यक्ष एवं कार्यक्रम संयोजक श्रीकांत शर्मा ने सभी का आभार व्यक्त किया।

Leave a comment