जालौन: तंबाकू नियंत्रण और क्षय रोग विभाग मिलकर करेंगे काम : मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. ऊषा सिंह

संभावित रोगियों को एक दूसरे विभागके पास भेजेंगे काउंसलिंग व इलाज के लिए

जालौन 29 जनवरी 2021 टीबी के ऐसे रोगी जिन्हें नशे की लत है, उनकी तंबाकू नियंत्रण कक्ष में काउंसलिंग की जाएगी और ऐसे नशे के रोगी जो संभावित टीबी रोगी हो सकते है, ऐसे नशे के लती लोगों की टीबी की जांच होगी। यदि जांच के बाद उन्हें टीबी निकलती है तो उनकी काउंसलिंग कर इलाज शुरू किया जाएगा। यह निर्णय जिला क्षय रोग नियंत्रण कार्यक्रम और जिला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ की बैठक में लिया गया।

शुक्रवार को जिला क्षय रोग अस्पताल में आयोजित मासिक बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ ऊषा सिंह ने कहा कि भारत को क्षय रोग से मुक्त करने के लिए सभी लोगों की सहभागिता जरूरी है। टीबी और नशा मुक्ति के लिए अब दोनों विभागों को आपस में सामंजस्य कर काम करना है। यह अभियान तभी सफल हो सकता है, जब टीबी रोगियों की खोज कर उनका समय से इलाज शुरू कर दिया जाए। जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ सुग्रीव बाबू ने कहा कि पिछले दिनों शासन स्तर पर हुई विभागीय बैठक के बाद क्षय रोग विभाग और तंबाकू नियंत्रण इकाई को मिलकर काम करने को कहा गया है। उसी के अनुपालन में यह बैठक आयोजित की गई है। उन्होंने कहा कि नशे की लत के कारण कई लोग खानपान पर ध्यान नहीं देते है। जिससे वह दमा जैसी बीमारी का शिकार हो जाते है। कुछ उनमें टीबी रोगी भी हो जाते है। ऐसे रोगियों का चिह्नित कर उनका इलाज भी शुरू किया जाएगा। साथ ही उन्हें नशा मुक्ति के लिए तंबाकू नियंत्रण कक्ष में भेजकर उनकी काउंसलिंग भी कराई जाएगी। यही नहीं यदि कोई मरीज नशा मुक्ति के लिए तंबाकू नियंत्रण कक्ष में पहुंचता है और वहां तैनात स्वास्थ्य कर्मियों को लगता है कि वह टीबी का संभावित रोगी हो सकता है तो उसे टीबी की जांच के लिए टीबी अस्पताल भेजा जाएगा। इस तरह दोनों विभाग साथ मिलकर टीबी मुक्त भारत बनाने का काम करेगा।

जालौन: तंबाकू नियंत्रण और क्षय रोग विभाग मिलकर करेंगे काम : मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. ऊषा सिंह

जिला तंबाकू नियंत्रण इकाई की सलाहकार तृप्ति यादव ने बताया कि सिगरेट व अन्यक तंबाकू उत्पाद अधिनियम के माध्यम से तंबाकू नियंत्रण कानून को मजबूत करने के लिए सभी का सहयोग जरूरी है। सरकारी विभाग इसमें सहयोग कर रहे हैं। जिले में करीब सौ कार्यालय को तंबाकू मुक्त कार्यालय घोषित कर दिया गया है। अब जिले के ग्राम पंचायतों को भी तंबाकू मुक्त क्षेत्र घोषित किया जाना है। उन्होंने बताया कि तंबाकू संशोधन बिल का स्वास्थ्य विभाग सहयोग कर रहा है।

बैठक में महेश कुमार, कुलदीप, अश्वनी,आलोक मिश्रा, संजय अग्रवाल, राजीव उपाध्याय, नुरुल हुदा, अहमद शादाब, ब्रजेंद्र, शहनवाज आदि मौजूद रहे।

Leave a comment