जालौन: आरबीएसके की टीमें फिर से शुरू करेंगी बच्चों की स्क्रीनिंग, वीएचएनडी सत्र में भी पहुंचेंगी आरबीएसके टीम

आरबीएसके की टीमें फिर से शुरू करेंगी बच्चों की स्क्रीनिंग, वीएचएनडी सत्र में भी पहुंचेंगी आरबीएसके टीम

जालौन, 27 दिसंबर 2020 कोरोना संक्रमण के फैलाव रोकने के लिए लगाए गये लॉकडाउन के दौरान स्थगित की गयी स्वाउस्य्का सेवायें फिर से सुचारू होने लगी है कोरोना की ड्यूटी में जुटी राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम आरबीएसके की टीम को भी वापस अपने मूल काम बच्चों की स्क्रीनिंग के लिए निर्देशित किया गया है। इस सम्बीन्धस में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश की मिशन निदेशक अपर्णा उपाध्याय ने मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को पत्र भेजा है।

जालौन: आरबीएसके की टीमें फिर से शुरू करेंगी बच्चों की स्क्रीनिंग, वीएचएनडी सत्र में भी पहुंचेंगी आरबीएसके टीम

पत्र में कहा गया है कि माध्यमिक विधालयों में कक्षा नौ से लेकर इंटरमीडिएट तक की कक्षाएं संचालित होने लगी हैं लिहाजा आरबीएसके की टीम को कार्ययोजना बनाकर सरकारी और सहायता प्राप्त विद्यालयों में पढऩे वाले छात्रों का स्वास्थ्य परीक्षण करना सुनिश्चित करें। बच्चों के स्वास्थ्य परीक्षण के दौरान कोरोना संबंधी गाइड लाइन का पूरा पालन किया जाए। आरबीएसके के नोडल अधिकारी डॉ एसडी चौधरी का कहना है कि आरबीएसके के अंतर्गत मोबाइल हेल्थ टीम के माध्यम से स्कूलों और आंगनबाड़ी केंद्रों में जन्मजात दोष वाली बीमारियों, डिजीज, डिफिसिएंसी, डेवलपमेंट डिले फोर डी की पहचान के लिए स्वास्थ्य परीक्षण किया जाता है । स्क्रीनिंग में चिह्नित किए गए बच्चों को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, जिला अस्पताल, पोषण पुनर्वास केंद्र, जिला शीघ्र हस्तक्षेप केंद्र और राजकीय मेडिकल कालेज में निशुल्क उपचार के लिए भेजा जाता है। यही नहीं सर्जरी वाले मामलों में बच्चों को अलीगढ़, कानपुर, झांसी, लखनऊ जैसे स्थानों पर भी भेजा जाता है।
जिला शीघ्र हस्तक्षेप केंद्र के प्रबंधक रवींद्र सिंह चौधरी ने बताया कि जिले में नौ ब्लाकों में 18 टीम हैं। एक टीम में एक पुरुष व एक महिला चिकित्सक, एक पैरामेडिकल व स्टाफ नर्स होती है। उनका कहना है कि आरबीएसके टीम अभी तक आंगनबाड़ी केंद्र व स्कूलों में जाकर बच्चों को चिह्नित करती थी लेकिन अभी स्कूल व आंगनबाड़ी केंद्र बंद होने के दौरान वीएचएनडी (विलेज स्वास्थ्य पोषण दिवस) पर टीम जाकर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कर चिह्नित करने का काम कर रही है। दीपावली के बाद से स्वास्थ्य गतिविधियां तेज हो गई हैं। प्रोटोकाल उचित दूरी मास्क, सेनेटाइजर का पालन करना है।

Leave a Comment